प्रियंका चतुर्वेदी का कांग्रेस छोड़कर शिवसेना में जाना बताता है कि, कांग्रेस में नहीं होता महिलाओं का सम्मान:

कांग्रेस की तेजतर्रार नेता और प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी ने अपने साथ हुए दुर्व्यवहार और बदसलूकी के कारण 2 दिन पहले कांग्रेस पार्टी छोड़ दी थी आज उन्होंने शिवसेना पार्टी की सदस्यता माननीय उद्धव ठाकरे के समक्ष ले ली. मथुरा में कांग्रेस पार्टी के कार्यक्रम में अपने साथ हुए दुर्व्यवहार के बाद वो काफी क्षुब्ध थीं और उन्होंने राहुल गाँधी से दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की मांग की थी पर राहुल गाँधी अपनी ही चाल में मगन हैं उन्होंने दोषियों के खिलाफ कोई भी कार्रवाई नहीं की. वैसे भी राहुल गाँधी ने तो जयाप्रदा के साथ आज़म खान द्वारा दिए गए बयान की भी निंदा नहीं की है, इन सब बातों से यह सिद्ध हो जाता है कि राहुल गांधी या यूं कहें सोनिया गाँधी का परिवार महिलाओं के सम्मान की कितनी इज़्ज़त करता है, उनके लिए सिर्फ राजनीति महत्वपूर्ण है न की महिलाओं का सम्मान.

यह सोचने की बात है कि अगर किसी ने अपने जीवन के 10 बहुमूल्य वर्ष किसी पार्टी को दिए हों और आज वो खुद ही पार्टी में खुद के साथ हुई इस घटना के कारण अपमानित महसूस कर रही हों तो उनके सामने विकल्प क्या था, अपने आत्मसम्मान की इस लड़ाई में वो आज खुद मजबूर हो गयीं और वो कांग्रेस से बाहर आ गयीं.

शिवसेना में उनके राजनीतिक भविष्य की उनको हमारी अग्रिम शुभकामनाये

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *