राहुल-केजरी भाई भाई, हकीकत लोगों के सामने आयी. राहुल गाँधी ने स्वीकारा दिल्ली में गठबंधन की बात चल रही थी:

जब पहली बार यह खबर छन कर बाहर आयी, कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल कांग्रेस के साथ लपर सपर करने के लिए लालायित हैं तब दिल्ली के लोगों को थोड़ा आश्चर्य हुआ क्योंकि दिल्ली में लोगों ने उनको डायरी और कागजात दिखाकर वोट मांगते देखा था जिसमे कथित रूप से रोबर्ट वाड्रा और शीला दीक्षित के घूसखोरी वाले सबूत थे. केजरीवाल लोगों को यह बताते नहीं थकते थे कि राहुल गाँधी और सोनिया गाँधी भी कितने बड़े भ्रष्टाचारी है और इन लोगों से देश को कितना भयानक खतरा है. पर आज राहुल गाँधी ने यह स्वीकारा कि दिल्ली की लोकसभा सीट पर कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के बीच 4-3 फॉर्मूले की बात चल रही थी (अभी भी चल रही है)

आज देश के लोगों ने देखा, कि गिरगिट के बाद धरती पर रंग बदलने वाला कोई और जीव अगर है तो वो हैं श्रीमान अरविन्द केजरीवाल, जो आज कांग्रेस से गलबहियां करने की जुगत में लगे हैं. राहुल गाँधी भी एक बिना रीढ़ के इंसान हैं जो केजरीवाल से इतनी गालियां खाने के बाद भी केजरीवाल की दी हुई गिलौरियां खाने को तैयार हैं.

लोगों को भी परदे के पीछे की कहानी समझ में आ गयी है, अब तक आप जो 2013 से अब तक आम आदमी पार्टी और कांग्रेस की नौटंकी देख रहे थे वो तो भइया सिर्फ नौटंकी थी बस, हकीकत तो यही है जो आप आज देख रहे हैं उसका मतलब सिर्फ एक है – “केजरी-राहुल भाई भाई”

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *