सुखद – 200 अमेरिकी कंपनियां चीन को छोड़कर अब भारत को मैन्युफैक्चरिंग सेंटर बनाना चाहती हैं

रोजगार के मोर्चे पर भारत के लिए एक सुखद खबर आयी है, लगभग 200 अमेरिकी कंपनियां अब चीन को छोड़कर भारत को विनिर्माण (मैन्युफैक्चरिंग) का सेन्टर बनाना चाहती हैं, अमेरिका और भारत के संबंधों को मजबूत बनाने की पैरवी करने वाले स्वयंसेवी समूह यूएस-इंडिया स्ट्रेटजिक ऐंड पार्टनरशिप फोरम (USISPF) ने यह बात कही है, फोरम ने कहा कि चीन की जगह कोई अन्य विकल्प तलाश कर रही कंपनियों के लिए भारत में शानदार अवसर उपलब्ध हैं.

ग्रुप के चेयरमैन मुकेश अघी ने कहा कि कई कंपनियां उनसे बात कर रही हैं और पूछ रही हैं कि भारत में निवेश कर किस तरह से चीन का विकल्प तैयार किया जा सकता है, उन्होंने कहा कि ग्रुप नई सरकार को सुधारों को तेज करने और निर्णय लेने की प्रक्रिया में पारदर्शिता लाने का सुझाव देगा.

अगर ऐसा वाकई में हो जाता है तो भारत यूरोप और अमरीकी कंपनियों के लिए चीन से अलग एक बेहतर विकल्प बन सकता है, सरकार को विनिर्माण के क्षेत्र में नई सोच और विचारों के साथ कदम बढ़ाना चाहिए, जरूरत पड़े तो माननीय रतन टाटा जैसे लोगो का सहयोग और सुझावों को भी ले लेना चाहिए.

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *